in ,

जानिये क्यों होता है रेल की अंतिम डिब्बे पर X का निशान

why-last-train-bogie-has-x-mark

आपने हर ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर एक निशान देखा ही होगा है और नियम के अनुसार यह निशान हर ट्रेन की आखरी बोगी पर होना अनिवार्य है. यह निशान X का है लेकिन क्या आप जानते है कि यह निशान क्यों होता है, इसका मतलब क्या है? लास्ट बोगी पर बना यह X निशान लाल रंग और सफ़ेद का होता है.

पुराने समय में सारी गाड़ियों के अंतिम डिब्बे पर तेल का लैंप रख कर जलाया जाता था. इतना ही नहीं अब इसके जगह एक बिजली का लैंप लगाया जाने लगा है. यह लैंप रह-रह कर चमकता है. दरअसल ये सब निशान रेलवे में काम करने वाले कर्मचारियों को पता लग जाए कि ट्रेन की पूरी बोगिया जा चुकी है.

X निशान के अलावा ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर एक बोर्ड भी रहता है जिस पर LV लिखा होता है. यह बोर्ड अंग्रेज़ी में लिखा जाता है और इसका रंग सफ़ेद या काला होता है. इस बोर्ड का मतलब होता है कि last vehicle यानी आखिरी डिब्बा.

यदि कोई कर्मचारियों को ट्रेन के आखरी डिब्बे पर यह निशान नहीं देखता है और ट्रेन पूरी गुज़र गयी हो तो इसका मतलब पूरी गाड़ी नहीं आई है. इस स्थिति में वह आपातकालीन कार्य शुरू कर देता है.

भारतीय रेलवे चाहती है कि अब सभी ट्रेने, प्रीमियम ट्रेनों की तरह डायनमिक किराया सिस्टम लागू कर देने का सोच रही है. इस सिस्टम को लागू करने के लिए इसकी मांग मोहम्मद जमशेद की अध्यक्षता वाली समिति ने रेलवे से की है.

अगर उनकी ये मांग पूरी हो जाए तो सभी ट्रेनों का किराया भी हवाई जहाज़ की तरह बुकिंग के साथ बढ़ता ही जाएगा. उनका मनना है कि जितनी कम सीटें उतना ज़्यादा किराया. हालांकि कुछ ट्रेनों में यह सिस्टम पहले से ही लागू कर दिया हैं.

उनकी समिति यह चाहती है कि ट्रेन की यात्रियों को यहाँ से वहाँ ले जाने की क्षमता में भी बढ़ोत्तरी की जाए. जिससे कि ज़्यादा से ज़्यादा यात्री सफ़र कर सकें. इस समिति को पूर्व रेल मंत्री सुरेश प्रभु से सराहना भी मिल चुकी है.

इस समिति ने सही समय पर उन्हें रिपोर्ट सौंप दी थी. सुरेश प्रभु ने कहा कि हम पूरी कोशिश करेंगे कि समिति की मांग को पूरा कर सकें. उन्होंने यह भी कहा कि मांग पूरी होने पर जितनी जल्दी हो सके उन्हें लागू भी कर दिया जाएगा.

समिति ने कुछ ऐसे क्षेत्रों की जानकारी निकली है जहां किरायों को तर्कसंगत बनाने की आवश्यकता है. इसके अलावा समिति ने रेलवे स्टेशन पर यात्रियों और मालभाड़े की बढ़ोत्तरी में आने वाली बाधाओं की भी जानकारी निकली है.

mumbai duo earns 4 crore by selling vada pao

एक वड़ा पाव से कमाने लगे 4.4 करोड़ रुपये, ये है कामयाबी की सच्चाई

do-you-know-real-name-of-these-singer

हनी सिंह या बादशाह नहीं, ये है आपके फेवरेट रैपर के असली नाम

Loading...