in

शिवपुराण के अनुसार ये है मनुष्य की मृत्यु के संकेत

जिस व्यक्ति ने इस धरती पर जन्म लिया हैं. उसे एक न एक दिन निश्चित तोर पर इस दुनिया को छोडकर जाना ही होगा. मृत्यु एक शाश्वत सत्य है, जिसे कोई भी ठुकरा नहीं सकता.

मनुष्य रूप में जब भगवान ने भी जन्म लिया था तोंवह भी मृत्यु को प्राप्त हुए थे, वैसे तों मृत्यु किसी भी निश्चित नहीं है, कोई भी इस बात का पता नहीं लगा सकता है की उसकी मृत्यु कब होगी, लेकिन शिवपुराण में बताए गए संकेत के आधार पर हम इस बात का पता लगा सकते हैं की आपकी मृत्यु कब होगी.

गिद्ध, कबूतर या कौवा :- 

शिवपुराण के अनुसार जब किसी व्यक्ति के सिर पर गिद्ध, कबूतर या कौवा आकर बैठे तों वह व्यक्ति एक महीने के अंदर ही मृत्यु को प्यारा हो जाता है.

शरीर पीला या सफेद पड़ जाना :-

जब किसी व्यक्ति का शरीर अचानक ही पीला या सफेद हो जाता है और लाल निशान शरीर पर दिखाई देने लगे तों उस व्यक्ति की 6 महीने के भीतर हो जाती हैं.

शरीर के अंग काम न करना :-

यदि आपके शरीर के अंग जैसे आंख, मुंह, कान, और जीभ सही तरह से काम नहीं करती हैं, तों आपकी मृत्यु 6 महीने के अंदर हो सकती हैं.

चंद्रमा या सूर्य पर घेरा :-

यदि किसी व्यक्ति को चंद्रमा या सूर्य के आस-पास लाल या काला घेरा दिखाई देता हैं, तों उस व्यक्ति की मौत 15 दिन के अंदर हो सकती हैं.

तारे न दिखना :-

यदि किसी व्यक्ति को चंद्रमा या सूर्य के आस-पास लाल या काला घेरे के साथ तारे भी ठीक से न नजर आते हो तो, वह व्यक्ति एक महिना भी नहीं जी सकता.

परछाई न दिखाई :-

यदि आपको तेल, घी, जल या दर्पण में स्वयं की परछाई दिखाई नहीं देती है, तों आपकी आयु महज 6 महीने तक की ही बची हैं.

हाथ फड़कना :-

जब किसी व्यक्ति का लगातार बायां हाथ फड़कता है और तलवे(तालु) सूख जाते है तों उस व्यक्ति की मौत एक महीने में ही हो जाती है.

नीली मक्खियां :-

यदि किसी व्यक्ति को अचानक ही नीली मक्खियां घेर लें तो, उस व्यक्ति की उम्र महज एक महिना ही बची है.

आग का प्रकाश :-

यदि आपको आग का प्रकाश ठीक से दिखाई नही देता है, या फिर चारों और काला अंधकार नजर आता है तों आपकी मृत्यु 6 महीने के अंदर हो सकती हैं.

story of jaya kishori

जया किशोरी जी : दिलचस्प हैं साधारण लड़की से सन्यासी बनने की कहानी

Interesting facts of Indian cricketer Sourav Ganguly

इस भारतीय बल्लेबाज के छक्कों से परेशान थे अंपायर, एक ही मैच में गायब की थीं 3 गेंदें

Loading...