in

क्या हम विनाश की ओर बढ़ रहे हैं?

extinction-is-just-100-years-away

आज के समय में सभी के मन में एक प्रश्न घूमता है क्या हम धरती के विनाश की ओर बढ़ रहे हैं क्या आने  वाले समय में हमारा विनाश निश्चित है ऐसा क्या हो रहा है जो धरती विनाश की ओर धीरे-धीरे अग्रसर होते ही जा रही है यह सवाल आज के समय में हर किसी के मन में अवश्य आते हैं लेकिन क्या आपको इस बात की जानकारी भी है कि धरती के विनाश का कारण मनुष्य भी है तो कुछ प्राकृतिक कारण भी है लेकिन वह प्राकृतिक कारन सिर्फ मनुष्यों के द्वारा की जाने वाली जाने वाले कार्यों से ही होता है

आज के समय में धरती पर 99% प्रजातियां विलुप्त हो चुकी है धरती से कई प्रजातियां गायब हो चुकी है और इनका मुख्य कारण ज्वालामुखी होता है क्योंकि ज्वालामुखी से निकलने वाली कार्बन डाई ऑक्साइड धरती के प्रजातियों को नष्ट कर देती है ज्वालामुखी में विस्फोट होने से जो कार्बन डाइऑक्साइड निकलती है उस का तापमान वायुमंडल में इतना अधिक हो जाता है कि धरती पर मौजूद जीव-जंतु वनस्पति इसे सह नहीं पाते हैं इसके चलते उनका जीवन समाप्त हो जाता है.

extinction-is-just-100-years-away

धरती पर बढ़ रहे कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा को देखते हुए तो यही कहा जा सकता है कि भविष्य में धरती से जीव जंतु वनस्पतियों का नामोनिशान खत्म हो जाएगा और इस धरती पर एक भी जीव जीवित नहीं रह पाएगा हम निरंतर विनाश की ओर अग्रसर होते जा रहे हैं और इसका मुख्य कारण मनुष्य है क्योंकि मनुष्य कुछ ऐसी गतिविधि कर रहा है जो प्रकृति के नियमों के खिलाफ है.

extinction-is-just-100-years-away

मनुष्य प्रकृति के नियम के साथ खिलवाड़ करता जा रहा है और धरती को विनाश की ओर अग्रसर करते जा रहा है आज के समय में तो अभी मनुष्य को इस बात का एहसास नहीं होगा लेकिन जब यह विनाश लोगों के सामने होगा तब उन्हें इस बात का एहसास होगा कि मनुष्य ने प्रकृति के साथ खिलवाड़ करके कितना गलत किया है धरती पर बढ़ रहे कार्बन डाइऑक्साइड और ग्लोबल वार्मिंग की वजह से कहा जा रहा है कि एक बार फिर धरती से सभी जीव जंतु और वनस्पतियों का विनाश निश्चित है सभी पर मौत का खतरा मंडरा रहा है वैज्ञानिक भी इस बात की जानकारी दे चुके हैं कि आने वाले समय में धरती से जीव विलुप्त हो जाएंगे ऐसी संभावना जताई जा रही है.

extinction-is-just-100-years-away

आखिर क्या कारण है कि हजारों वर्ष पहले भी इसी तरह धरती से जीवन का विनाश हो गया था वह क्या कारण है जिसकी वजह से जीव धरती से विलुप्त हो गए थे विज्ञान है कि अगर माननीय जाए तो उनके अनुसार ऐसी पांच बड़ी तबाही हुई थी जिसके चलते धरती से जियो समाप्त हो गए थे और इसमें से मुख्य डायनासोर थे डायनासोर भी कई वर्षों पहले इस धरती से समाप्त हो गए थे उसका कारण तबाही थी तबाही के कारण ही इनका धरती से विनाश हो सका था.

धरती पर बढ़ रहे प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग की वजह से ग्लेशियरों का पिघलना इस बात की ओर संकेत कर रहा है कि एक बार फिर हम एक विनाश की ओर धीरे-धीरे अग्रसर हो रहे हैं और इस तबाही के जिम्मेदार हम खुद होंगे क्योंकि हमारे द्वारा ही पर्यावरण को प्रदूषित किया जा रहा है जिसकी वजह से धरती पर कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है वर्षों पहले जो तबाही हुई थी उसकी जिम्मेदार तो प्रकृति थी लेकिन अब जो तबाही धरती पर मचेगी उसका जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ इंसान होगा क्योंकि इंसानों के द्वारा किए जाने वाले कार्यों से ही आज हम विनाश की ओर अग्रसर हो रहे हैं

वैज्ञानिकों के अनुसार हम धीरे धीरे विनाश की ओर अग्रसर हो रहे भविष्य में ऐसी तबाही होगी जो आज तक इस धरती पर नहीं होगी पिछली तबाही से 50% ज्यादा यह तबाही खतरनाक हो सकती है आज के समय में व्यक्ति जैव विविधता के लिए एक बहुत ही बड़ा खतरा साबित हो रहा है इसके मद्देनजर यह कहा जा रहा है कि आने वाले समय में जैव विविधता पूर्ण रुप से खत्म हो जाएगी एक ऐसा अनुमान है कि आने वाले सोया 1000 साल के बाद धरती पर एक ऐसा विस्पोट या ऐसी तबाही होगी जिसकी किसी ने कभी कल्पना नहीं की थी जिसके चलते धरती से जीव प्रकृति और वनस्पतियों का विनाश हो जाएगा.

इसके बावजूद भी यदि मनुष्य सचेत नहीं हुआ जागरुक नहीं हुआ और इस तबाही को रोक नहीं सका तो निश्चित ही आने वाले समय में मनुष्य अपनी आंखों के सामने तबाही का मंजर देखेगा.

thailand-a-unique-tree-which-grow-up-girls-shaped-fruits

अनोखा पेड़ जिस पर उगती है लडकिया

Facebook's new features

फेसबुक के यह फीचर्स के बारे में आप शायद ही जानते होंगे

Loading...