in ,

विश्व का सबसे स्वच्छ गांव कहीं और नहीं भारत मे ही है, देखिये इसकी सुंदरता

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी का स्वच्छ भारत बनाने का सपना अब धीरे धीरे पूरा होता नजर आ रहा है. प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा प्रारम्भ किये गए स्वच्छ भारत अभियान के तरह अब हर कोई भारत देश को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान दे रहा है. आज हम आपको भारत के ऐसे गांव के बारे में बताएँगे जिसकी कभी आपने कल्पना भी नहीं की होगी.

अब तो ऐसा लग रहा है की वह दिन दूर नहीं जब हमार देश भी दुसरे देशो की तरह पूर्ण स्वच्छ हो जाएगा. क्यों की देश की स्वछता को लेकर अब हर गली मोहल्ले में वाद विवाद हो ही जता है. जब भी कोई गंदगी करता दिखाई देता है तो उस पर कारवाही की जाती है. अब देश में साफ़ सफाई को लेकर लोगो में जागरूकता बढ़ती ही जा रही है.

पीएम मोदी का प्रयास

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

पीएम मोदी सतत देश को स्वच्छ बनाने के लिए प्रयास कर रहे है. जिसमे देश के नागरिक भी बड़ चढ़ कर अपना सहयोग कर रहे है. मोदी के इस प्रयास को देखते हुए उनके विरोधियो का पारा चढ़ गया है. वह मोदी की बदनामी के लिए हर संभव प्रयास कर रहे है.यहाँ तक की वह पीएम मोदी को गाली देने से भी पीछे नहीं हटते हैं जो उनकी कुंठा को दर्शाता है.

देश का सबसे स्वच्छ गांव

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

आज हम आपको विश्व के सबसे स्वच्छ गांव के बारे में बताएँगे. इस गांव के सफाई के स्तर  के साथ शिक्षा का भी स्तर प्रथम है. इस गांव का शिक्षा का स्तर 100 प्रतिशत रहने के साथ यहाँ के सभी व्यक्ति शिक्षित है. बात यही खत्म नहीं होती है इस ग्राम के अधिकतर व्यक्ति अंग्रेजी में ही बात करते है.

कहा है यह गांव

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

जनपद खासी हिल्स का यह गांव मेघालय के शिलॉंन्ग भारत-बांग्लादेश बॉर्डर से करीब 90 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. 2014 में की गई जनगणना की जानकारी के अनुसार इस गांव में करीब 95 परिवार रहते हैं. व्यक्ति अपनी जीविका चलाने के लिए सुपारी की खेती करते है.

नायाब तरीका

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

आपको जानकर हैरानी होगी की इस गांव के सभी व्यक्ति अपने घर से निकलने वाले किसी भी तरह के कचरे को बांस से बने पात्र में इकठ्ठा करते हैं. उस कचरे को जमा करके उसकी खाद बना कर वह अपने खेतो में उसका इस्तेमाल करते है. इस तरह वह अपने खेत के लिए खाद भी बना लेते है और गांव की स्वच्छता भी बनी रहती है.

एशिया का सबसे साफ गांव

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

इस गांव को 2003 में एशिया का सबसे साफ गांव की उपाधि मिलने के साथ 2005 में भारत का सबसे साफ और स्वच्छ गांव की भी उपाधि दी गई. इस गांव में सभी जगह बांस के बने पात्र लगाए गए है. बच्चा हो बड़ा हो या फिर कोई बूढ़ा यदि किसी को भी गदंगी दिखती है तो पहले वह उस गंदगी को साफ़ करता है उसके बाद वह वहा से आगे जाता है.

लोगो में जागरूकता

bharat-ka-sabse-swachh-gav-konsa-hai

गांव की स्वछता के प्रति लोगो में जागरूकता ही उन्हें इस मुकाम पर ले कर आई है. सड़क पर चलते हुए किसी को भी कचरा दिखाई देता है तो पहले रूककर वह उस कचरे को डस्टबिन में डालेगा उसके बाद ही आगे जायेगा. लोगो के इस प्रयास से उस गांव की सफाई की गरिमा बनी रहती है.

Viral Photo Mystery

इस पेंटिंग में दिखी ऐसी चीज जिस पर यकीन कर पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है

australian-fast-bowler-brett-lee-wife-lana-anderson

अपनी पहली पत्नी को ख़ास वजह से दिया था ब्रेट ली ने तलाक, दूसरी पत्नी है ऑस्ट्रेलियाई मॉडलों में सबसे आगें

Loading...