in

8 महीने की बच्ची के पेट में बच्चा, सच्चाई जान हेरान हो गई दुनिया

8-month-old child suffers from illness

छोटे से बच्चे सबसे मासूम और खूबसूरत होता है उन्हें देखकर हमें ख़ुशी का एहसास होता है बच्चे भगवान का रुप होते हैं बच्चों में भगवान समाए रहते हैं ऐसा कहा जाता है कि उनकी हाथो की लकीरों में भगवान बसे होते हैं लेकिन क्या इन मासूम बच्चो के साथ भी कुछ बुरा हो सकता है यदि आप सोचते हैं नहीं तो आप गलत है क्योंकि इन मासूम और भोले बच्चों के साथ भी ईश्वर बहुत कुछ बुरा करता है.

कुछ ऐसा ही एक मामला सुनने में आया जहां एक छोटी सी 8 महीने की बच्ची को यदि आप देखेंगे तो आप कहेंगे यह प्रेग्नेंट है जन्म के 20 हफ्तों में ही बच्ची का पेट इस तरह हो गया जैसे कि वह प्रेग्नेंट हो गई है हर कोई इस बच्ची को देखने पर यही कहता था कि यह बच्ची प्रेग्नेंट है लेकिन मामला कुछ और ही था हालांकि ऑपरेशन के बाद वह बच्ची बिल्कुल ठीक हो गई है लेकिन जिसने भी उसे पहले देखा वह तो यही कहता रहा कि इस बच्ची के पेट में बच्चा है. 

8-month-old child suffers from illnessन्यू जर्सी में जन्मी केरेन रोड्स की बेटी जन्म से ही काफी कमजोर थी उन्होंने अपनी बेटी का नाम मैडी रखा मैडी के जन्म के 20 हफ्ते बाद ही उनका पेट इस तरह दिखाई देने लगा जैसे वह प्रेग्नेंट है लेकिन मैडी एक बीमारी से ग्रसित थी Polycystic Kidney Disease इस बीमारी में किडनी अपना काम करना बंद कर देती है.

8-month-old child suffers from illnessडॉक्टरों ने जब इसकी जांच की तो पता चला की मैडी को यह बीमारी कैरेन द्वारा और उनके पति के द्वारा ही लगी है महज डेढ़ साल की उम्र में ही मैडी की किडनी ने दम तोड़ दिया और वह इस बीमारी से पूरी तरह ग्रसित हो गई है मैडी के पिता ने अपनी बेटी की जान बचाने के लिए उन्हें अपनी किडनी देने का फैसला किया और डॉक्टरों ने भी इस बात में सहमति जताई.

8-month-old child suffers from illnessलेकिन मैडी के माता-पिता को अभी भी एक चिंता सता रही है क्योंकि डॉक्टर के अनुसार 25 साल बाद भी मैडी को दूसरी किडनी की जरूरत होगी यदि 25 साल बाद मैडी की किडनी ट्रांसप्लांट नहीं की गई तो उन्हें वापस से इन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है हालांकि अभी भी मैडी का थोड़ा पेट उभरा हुआ दिखता है.

thailands-priya-suriya-has-dated-5000-men

5,000 मर्दों को डेट करने वाली महिला, अब कर रहीं ये काम…

story-of-amarnath-temple

अमर कथा सुनाते वक्त कोई भी जीव ना रहे इसलिए भगवान शिव पांचो तत्व त्याग कर गुफा पर पहुंचे

Loading...