in

महाशिवरात्रि 2018 : त्रिशूल से लेकर नाग तक, जानिए भगवान शिव के साथ रहने वाली इन चीजों का महत्व

भोले की झलक सबसे अलग

this thing meaning in lord shiva

जब हम भगवान शिव की आराधना करते है तो उनकी झलक हमारे सामने आ जाती है जिसमे भगवान शिव एक हाथ में त्रिशूल, दूसरे हाथ में डमरू और गले सर्प धारण किए हुए रहते है देखा जाए तो मंदिर में भी जब हम शिवजी की मूर्ति को देखते है.

तो इनके साथ कुछ ऐसी ही वस्तु है जिसे हमेशा इनके साथ देखा है लेकिन शायद ही आपने सोचा होगा की इन चीजो को क्या महत्व रहता है आइये जानते इन चीजो का क्या महत्व है.

शिव जी का त्रिशूल-:

this thing meaning in lord shiva

पौराणिक कथा के मुताबिक जब ब्रह्मनाद से जब शिव प्रकट हुए तो वह रज, तम, सत तीनो गुण के साथ प्रकट हुए यह तिन गुण शिव जी के त्रिशूल में समाहित है इसके बिना सृष्टि का संचालन कठिन था इस वजह से शिव जी ने त्रिशूल के रूप इन तीनो गुण को अपने हाथ में धारण कर लिया इस वजह से हमेशा शिव जी के हाथ में त्रिशूल रहता है.

शिव जी का डमरू-:

this thing meaning in lord shiva

सृष्टि के शुरुरात में जब देवी सरस्वती प्रकट हुई तो उनकी वीणा की ध्वनि ने स्वर को जन्म दिया लेकिन यह ध्वनि सुर और संगीत विहीन थी कहा जाता है की भगवन शिव ने नृत्य करके चौदह बार डमरू बजाया और इस ध्वनि से सुर और ताल का जन्म हुआ और उसी समय से शिव जी के हाथ में डमरू रहता है यह सृष्टी का संतुलन बनायें रखता है.

शिव जी का नाग-:

this thing meaning in lord shiva

कहा जाता है की शिव जी के गले में जो नाग है उसका नाम वासुकी है यह नाग देवता नागो के रजा है और नागलोक पर शासन करते है माना जाता है की वासुकी नाग शिव जी के बहुत बड़े भक्त थे इनकी भक्ति से प्रस्सन होकर शिव ने इन्हें अपने गले में हार के रूप धारण कर लिया इनके गले में नाग होने का प्रतिक है की सभी बुराई इनके वश में है.

शिव जी का चन्द्रमा-:

this thing meaning in lord shiva

चन्द्रमा को दक्ष का श्राप मिलने के बाद इन्होने शिव जी तपस्या की जिसके बाद शिव ने प्रस्सन होकर इनको अपने शीश में धारण कर लिया.

शेयर जरुर करे!

जाने कैसे बनी मामूली महिला लाखो की कंपनी की मालिक

funny names of some places in india

भारत की इन जगह के नाम सुनकर आप अपनी हंसी रोक नहीं पाएंगे