in

यहां पर पुरुष करते हैं दुल्हन की तरह सोलह श्रृंगार

men-in-this-temple-have-to-wear-women-will-be-shocked-to-know-the-reason

मंदिर एक ऐसी जगह है जहां पर सभी को समान नजरो से देखा जाता है मंदिर में जाने के लिए किसी को पर भी रोक नहीं लगाई जाती है लेकिन कुछ प्रमुख मंदिर ऐसे हैं जहां पर महिलाओं का प्रवेश पूर्णता वर्जित है भारत में ऐसे कई मंदिर है जहां पर महिलाओं के प्रवेश पर आपत्ति जताई जाती  है महिलाएं मंदिर में पूजा नहीं कर सकती है लेकिन भारत में एक मंदिर ऐसा है जहां पर ना तो महिलाओं के पूजा करने पर पाबंदी है और ना ही किन्नरों पर इस मंदिर में चाहे स्त्री हो या फिर किन्नर सभी को मंदिर में पूजा करने का पूरा अधिकार होता है

लेकिन बात आती है पुरुषों की तो उन पर एक नियम लागू होता है यदि पुरुष इस मंदिर में पूजा करना चाहता है तो उसे लड़की बनना होगा जी हां  पुरुष को इस मंदिर में पूजा करने के लिए  महिलाओं की तरह सोलह श्रंगार करना होगा. यह खास मंदिर केरल के कोल्लम में स्थित है इसमें कोल्लम जिले में स्थित है श्री कोत्तानकुलांगरा देवी माता का मंदिर में प्रतिवर्ष एक त्योहार मनाया जाता है और इस त्यौहार को चाम्याविलक्कून नाम से जाना चाहता है यह त्यौहार काफी प्रसिद्ध है.

हर कोई इस त्यौहार में दूर-दूर से इस मंदिर में आता है जब यह त्योहार मनाया जाता है तो वहा हजारों श्रद्धालु आते हैं और उनमें से अधिकतर पुरुष होते हैं पुरुषों को इस मंदिर में पूजा करने के लिए महिलाओं के जैसा श्रंगार करना होता है जिसमें पुरुषों के लिए यहां पर एक अलग से कमरा बनाया गया है जहां पर वह महिलाओं की तरह सोलह श्रंगार कर सके पुरुषों को सिर्फ  साड़ी ही नहीं पहनते बल्कि महिलाओं की जैसी ज्वैलरी मेकअप और बालों में गजरा भी  सजाते है.

और इस त्यौहार में उपस्थित होने के लिए पुरुषों की कोई उम्र नहीं होती यहां पर हर उम्र के पुरुष आते हैं और महिलाओं की तरह सज धज कर  माता की आराधना करते हैं इस मंदिर में स्त्री और पुरुष ही नहीं बल्कि किन्नर भी बड़ी संख्या में आते हैं मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि इस मंदिर की मूर्ति की स्थापना किसी ने नहीं की थी बल्कि मूर्ति स्वयं प्रकट हुई थी इसके बाद यह मंदिर काफी प्रसिद्ध हुआ था.

इस मंदिर की परंपराओं के अनुसार यह मंदिर देश विदेश में काफी मशहूर है यह एकमात्र ऐसा मंदिर है जिसके ऊपर छत नहीं है और ना ही गर्भ ग्रह के ऊपर कलश बना हुआ है इस मंदिर को लेकर कई मान्यताएं प्रसिद्ध है कहा जाता है कि जब कुछ चरवाहों ने जब महिलाओं के कपड़े पहन कर पत्थर पर फूल अर्पण किए थे जिसके बाद इस पत्थर से दिव्य शक्ति प्रवाहित होने लगी थी

जिसके बाद इससे मंदिर का रुप दिया गया था एक मंदिर को लेकर एक को मान्यता प्रसिद्ध है कहा जाता है कि जब कुछ व्यक्ति एक पत्थर पर नारियल फोड़ रहे थे तो इस दौरान उस पत्थर से खून निकलने लगा इसके बाद लोग उस पत्थर को देवी का रूप मानकर पूजने लगे

 

 

For this reason, love marriage does not get success

यह कारण से 90% लव मैरिज सक्सेस नहीं हो पाती है

youngest-family

आप बता नहीं पाएंगे इनमें कौन माँ है और कौन है बेटी

Loading...